Ajmer Foundation Day

Dayanand College Ajmer

अजमेर शहर की स्थापना दिवस के अवसर पर दयानंद महाविद्यालय में शनिवार को अजय मेरु स्थापना दिवस के उपलक्ष में एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए सेवानिवृत्त प्रोफेसर पीके माथुर ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए अजमेर शहर के स्थापना से लेकर वर्तमान तक इतिहास पर अपने विचार रखे उन्होंने बताया कि वर्तमान शहर अपने विकास के लिए धार्मिक सामाजिक सांस्कृतिक ऐतिहासिक आर्थिक राजनैतिक साहित्य खेल आदि सभी क्षेत्रों मैं अपने स्थापना से लेकर वर्तमान तक अमेठी छात्र बनाए हुए हैं प्रोफ़ेसर माथुर ने अपने उद्बोधन में अजमेर शहर के स्थापना से लेकर वर्तमान तक इसकी विशेषताओं के सभी पहलुओं पर अपने विचार रख विद्यार्थियों को संबोधित किया और आने वाली पीढ़ी से आह्वान किया कि वह ऐतिहासिक तथ्यों को ग्रहण करते हुए इतिहास से अपना भविष्य संवारने का प्रयास करें शिक्षा के क्षेत्र में अजमेर एक प्रमुख केंद्र होने के साथ-साथ आर्य समाज का भी है प्रमुख केंद्र रहा है उन्होंने बताया कि मुगल आक्रांता या फिर ब्रिटिश हुकूमत सभी ने अजमेर को केंद्र मानकर अपने अभियानों की शुरुआत अजमेर से ही की धार्मिक नगरी के रूप में भी अजमेर का नाम विश्व के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में आता है महर्षि दयानंद सरस्वती द्वारा आर्य समाज की स्थापना के पश्चात अजमेर को ही केंद्र बनाकर विश्व भर में आर्य समाज का डंका बजाया 
मीडिया प्रभारी डॉ संत कुमार ने बताया कि कार्यक्रम का प्रारंभ दीप प्रज्वलन के साथ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर डीएवी गान के साथ किया गया इस अवसर पर महाविद्यालय प्राचार्य डॉक्टर लक्ष्मीकांत द्वारा मुख्य वक्ता प्रोफेसर पीसी माथुर का पुष्प गुच्छ के साथ स्वागत किया गया कार्यक्रम के अंत में महाविद्यालय प्राचार्य डॉ लक्ष्मीकांत द्वारा प्रोफेसर डीसी माथुर को स्मृति चिन्ह प्रदान कर उनका धन्यवाद ज्ञापित किया गया दयानंद महाविद्यालय इतिहास विभाग के तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम में विभागाध्यक्ष प्रदीप कुमार कसोटी या द्वारा सभी अतिथियों और विद्यार्थियों को धन्यवाद ज्ञापित किया गया मंच का संचालन प्राध्यापक कपिल कुमार के द्वारा किया गया इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राध्यापक डॉ प्रीति सिंह डॉ रितु शिल्पी डॉक्टर रफीक मोहम्मद डॉ वीके वर्मा सहित अनेक प्राध्यापक उपस्थित थे

Event List